भारत समेत पूरी दुनिया इस समय कोरोना वायरस का प्रकोप झेल रही है. भारत में कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्या 85,000 के पार हो गई है और 2,752 लोगों की मृत्यु भी हो चुकी है। हालांकि राहत की बात यह है कि 30,153 कोरोना वायरस संक्रमित लोगों को ठीक भी किया जा चुका है। एेसे में वैज्ञानिक इस घातक बीमारी का तोड़ ढूंढने के लिए रीसर्च में लगे हुए हैं तो वहीं कोरोना की वैक्सीन बनाने पर भी काम चल रहा है. लेकिन हाल ही में वैज्ञानिकों ने कोरोना को टक्कर देने के लिए दो चीजों को सबसे ज्यादा जरूरी बताया है।

आपको बता दें कि यह स्टडी कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी के अंतर्राष्ट्रीय कंप्यूटर विज्ञान संस्थान और हांगकांग के विज्ञान और प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के रिसर्च और वैज्ञानिक मॉडल पर आधारित है। इस स्टडी में ये बात सामने आई है कि 6 मार्च को कोरोना वायरस के चलते जापान में सिर्फ 21 मौतें हुईं। इसकी मुख्य वजह है कि जापान में लोग बहुत पहले से ही मास्क पहन रहे हैं। इस जानकारी के मुताबिक कोरोना वायरस को हराने के लिए मास्क पहनना और सोशल डिस्टेंसिंग दो चीजें सबसे ज्यादा जरूरी है। जापान के विपरीत अमेरिका में भी इसी दिन 2 हजार से ज्यादा लोगों ने अपनी जान गंवा दी जो कि जापान के आंकड़े का 10 गुना अधिक है. इस बात को मद्देनजर रखते हुए वैज्ञानिकों का कहना है। कि कोरोना से निपटने के लिए मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग बेहद जरूरी है. मास्क पहनना और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कम-से-कम तब तक करना होगा जब तक इसकी वैक्सीन की खोज नहीं कर ली जाती।

पीएम मोदी ने भी देश के नाम संबोधन में मास्क पहनने पर जोर देते हुए कहा था कि हमेशा के लिए लॉकडाउन नहीं लगाया जा सकता है. कोरोना से बचने के लिए हमें मास्क का इस्तेमाल और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना बेहद जरूरी है।

Categories: COVID-19 News