कोरोना वायरस के संक्रमण की वजह से लोगों का जीवन तहस-नहस हो चुका है. हर दिन कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्या बढ़ती ही जा रह ही हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि बीते 2 दिनों में 647 कोरोना वायरस के संक्रमण के जो मामले आए हैं वह सिर्फ जमात से जुड़े लोगों के हैं. इस लिहाज से इंतजामों की चुनौती भी बढ़ गई है. इससे पहले देश में लॉक डाउन के चलते कोरोना वायरस के संक्रमण के मामले तो आ रहे थे लेकिन उनमें तेजी नहीं थी कोरोना संक्रमण के मामलों में तेजी जमात के मामले सामने आने के बाद आई है.

आपको बता दें कि स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा है कि “निजामुद्दीन से तबलीगी जमात से जुड़े 647 संक्रमण के मामले बीते 2 दिन में सामने आए हैं. यह लोग 14 अलग-अलग राज्यों में फैले हैं इनमें दिल्ली, झारखंड, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, अंडमान निकोबार, तेलंगाना, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश जैसे कुल 14 राज्य शामिल हैं. बता दें अभी तक लगभग 2700 कोरोना संक्रमण के मामले सामने आ चुके हैं जबकि 56 लोगों की अभी तक मौत हो चुकी है. अच्छी बात यह है कि 185 कोरोना संक्रमित लोग ठीक होकर अपने घर भी जा चुके हैं.

 

लव अग्रवाल ने ये भी कहा है कि आरोग्य सेतु एप जो कल लांच किया गया था उससे आप रिस्क एसेसमेंट कर सकते हैं. आपके स्वास्थ्य और जिंदगी के लिहाज से और साथ ही परिवार और समाज के लिहाज से यह ऐप बेहद कारगर है. देशभर में अभी 30 लाख से ज्यादा लोगों ने इस एप को डाउनलोड किया है.

काेराेना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए अभी तक कोई दवाई नही बनी है इसलिए डॉक्टरों का कहना है कि “सोशल डिस्टैंसिंग” ही कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने का एक मात्र तरीका है। “सोशल डिस्टैंसिंग” के जरिये संक्रमण का खतरा काफी हद तक कम किया जा सकता है। इसलिए भारत में पीएम मोदी ने 24 मार्च की मध्यरात्रि से 21 दिनों का लॉकडाउन घोषित किया हुआ है। और कहा गया है कि सोशल डिस्टेंसिंग के माध्यम से कोरोना वायरस पर नियंत्रण करने की कोशिश की जा रही है।

Categories: COVID19 News